मांगलिक दोष कैलकुलेटर | Manglik Dosha Calculator

manglik dosha calculator

मांगलिक दोष कैलकुलेटर से मांगलिक दोष की मौजूदगी, और उपाय की जानकारी देता है. मांगलिक दोष खासकर विवाह के समय मुद्दा उपस्थित होता है. व्यक्ति की जन्म तिथि, जन्म समय और जन्म स्थान की जानकारी लेकर. मांगलिक दोष का परिणाम दिया जाता है. मांगलिक दोष कैलकुलेटर से मांगलिक दोष के प्रभाव का परिचय देता है

मंगल दोष / मांगलिक दोष क्या होता है ?

कुंडली में अगर प्रथम, चतुर्थ, सप्तम और बारहवे भाव में अगर मंगल हो तो मांगलिक दोष बनता है. कुछ पद्धति में द्वितीय और अष्टम भाव में भी मंगल होने पर उतना ही प्रभाव होने का दवा किया गया है.

मांगलिक दोष का मुख्य परिणाम क्या है ?

मांगलिक दोष में मंगल की चतुर्थ, सप्तम एवं अष्टम दृष्टी सप्तम भाव पर पड़ती है. सप्तम भाव विवाह का तथा वैवाहिक साथीदार का होता है. इस पर मंगल की दृष्टी आने पर पति पत्नी में अनचाहे विवाद जन्म लेते है. साथ ही मंगल की अष्टम दृष्टी पति या पत्नी के अष्टम भाव पर पड़े. मंगल पर पाप ग्रहोंका प्रभाव हो. तो किसी एक के जीवन लिए खतरा भी होता है.

मांगलिक दोष कैलकुलेटर

अपनी जन्म तिथि दर्ज करने और मांगलिक दोष की जांच करने के लिए नीचे दिए गए फॉर्म योग्य जानकारी भरे. मांगलिक दोष कैलकुलेटर के परिणाम पृष्ठ में मंगल दोष के उपाय भी बताए जाएंगे. साथ में मांगलिक होने दुष्प्रभाव को कैसे कम किया जाए. इसकी भी जानकारी रिपोर्ट में दी जाएगी.

Mangal Dosha Calculator
Name
Birth Date
Birth Time
Birth Location

मंगल दोष का सीधा यौन सुख से संबंध

इसमें अगर मंगल पर पाप ग्रहोंका प्रभाव हो. तो यह परिणाम तुरंत दिखाई देते है. सातवे स्थान पर मंगल का प्रभाव मतलब तीव्र यौन इच्छा. ऐसी परिस्थिती में वैवाहिक साथी भी मांगलिक देखा जाए. वैवाहिक सबंधोंमे समतोल होता है. वरना वैवाहिक साथ एक दुसरेसे खुश नहीं रह पाते है. इसलिए शादी से पहले मांगलिक दोष पर अवश्य विचार करना चाहिए.

बच्चो में मांगलिक दोष है, तो क्या परिणाम आएंगे ?

मंगल मतलब प्रचुर मात्रा में ऊर्जा का संचार होता है. इसलिए मांगलिक लोग जल्दी शारीरिक थकावट की शिकायत नहीं करते है. बातो से लड़ना हो या हातो से यह हमेशा सदैव तैयार रहते है. इसलिए बच्चो में भी बचपन में काफी ऊर्जा होती है. अगर इस ऊर्जा को सही दिशा नहीं दी गई. तो बच्चे चिड़चिड़े बन जाते है. यह हमेशा मस्ती के मूड में होते है. इसलिए इनका जादा से जादा वक्त खेल के मैदान के लिए होना चाहिए. इनमे भविष्य के अच्छे खिलाडी बनने की क्षमता होती है.

यह भी अवश्य पढ़े

मांगलिक दोष : मंगल के इन्ही दोषों से बनता है